ललितपुर

सर्वाधिक प्रतिशत वाले तीन कार्यालयाध्यक्षों को किया जायेगा पुरस्कृत

ललितपुर। जनपद की दोनों विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के मतदातागण एक ही 46 संसदीय निर्वाचन क्षेत्र झाँसी में सम्मिलित होने के फलस्वरूप 29 अप्रैल को मतदान दिवस में तैनात पुलिस कार्मिक, वाहनों के चालक, परिचालक, सफाईकर्मी, वाहनों के क्लीनर, वीडियोग्राफी में लगे व्यक्ति, मतदान दलों के कर्मचारी, सेक्टर, जोनल मजिस्टे्रट, आरओ, एआरओ, जिला निर्वाचन अधिकारी, कण्ट्रोल रूम, माइक्रो आब्जर्वर, होमगार्ड, पीआरडी तथा ऐसे समस्त व्यक्ति, मतदाता जो निर्वाचन संबंधी ड्यूटी पर होने के कारण अपने पंजीकरण वाले मतदान केन्द्रों पर मतदान करने में असमर्थ हों, को निर्वाचन कर्तव्य प्रमाण पत्र के माध्यम से मतदान की सुविधा प्रदान की जायेगी। जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर अवगत कराया है कि आयोग के निर्देशानुसार मतदान दिवस के 7 दिन पूर्व 22 अप्रैल तक डाक मतपत्र हेतु आवेदन पत्र एवं ईडीसी हेतु प्रारूप 12 क प्रभारी अधिकारी, डाक मतपत्र अथवा संबंधित एआरओ के पास अनिवार्य रूप से पहुँच जाना चाहिये ताकि निर्वाचक नामावली की कार्यप्रतियों में पीबी अथवा ईडीसी को उल्लिखित किया जा सके। संबंधित कार्यालयाध्यक्षों, विभागाध्यक्षों के द्वारा उक्त कार्य में पर्यवेक्षण हेतु वरिष्ठ, दक्ष अधिकारी को नोडल अधिकारी नियुक्त करते हुये वांछित संख्या में प्ररूप 12 प्रभारी अधिकारी डाक मतपत्र, चकबंदी अधिकारी अथवा एआरओ से प्राप्त कर उन्हें भरते हुये अन्तिम अवधि के पूर्व जमा कराना सुनिश्चित करें। समस्त उप जिलाधिकारी, तहसीलदार 22 अप्रैल तक प्राप्त वैध प्रारूप 12 एवं 12 क के आधार पर निर्वाचक नामावली की वर्किंग प्रतियों में पीबी, ईडीसी सर्वोच्च प्राथमिकता से अंकित कराना सुनिश्चित करें। निर्वाचन कर्तव्य प्रमाण पत्र जारी करने हेतु कार्यवाही किये जाने के निर्देश अनुपालनार्थ दिये जाते हैं। जिसमें 29 अप्रैल को निर्वाचन ड्यूटी में लगे समस्त अधिकारी, कर्मचारीगण प्रारूप 12 क पर प्रभारी अधिकारी डाक मतपत्र अथवा सहायक रिटर्निंग 226, उप जिलाधिकारी, ललितपुर अथवा सहायक रिटर्निंग 227, उप जिलाधिकारी, महरौनी के समक्ष आवेदन पत्र प्रस्तुत करेंगे एवं संबंधित एआरओ के द्वारा निर्वाचक, कार्मिक को प्रारूप 12 ख पर निर्वाचन कर्तव्य प्रमाण पत्र निर्गत किया जायेगा। प्रभारी अधिकारी प्रशिक्षण मतदान जब अपनी तैनाती के निकटतम मतदान केन्द्र पर मतदान हेतु उपस्थित होगा तब पीठासीन अधिकारी ईडीसी पर उनके हस्ताक्षर करवायेंगे। मतदान अधिकारी प्रथम, चिन्हित निर्वाचक नामावली प्रभारी के द्वारा ईडीसी में अंकित प्रविष्टियों को चिन्हित निर्वाचक नामावली के अंत में दर्ज करेगा। इस प्रकार अंकित की गई प्रविष्टि को वहीं क्रमांक दिया जायेगा जो पूर्व में अंकित क्रमांकों के बाद क्रमश: आयेगा। मतदान अधिकारी प्रथम ईडीसी अपने पास सुरक्षित रखेगा। इसके बाद उसी प्रक्रिया के अनुसार मतदान करायेगा जैसे अन्य मतदाता सामान्य प्रक्रिया के अन्तर्गत मत दे रहे हैं। मतदाता रजिस्टर 17 ए के कालम में प्रविष्टि इस प्रकार की जायेगी, यदि ईडीसी धारक विधानसभा 226 के भाग संख्या 25 के क्रमांक 415 पर अंकित है तो मतदाता रजिस्टर 17 ए के कॉलम 02 में 415/25/226 लिखा जायेगा तथा मतदाता रजिस्टर 17 ए के टिप्पणी कॉलम में ईडीसी मतदाता अंकित किया जायेगा। ईडीसी के माध्यम से मतदान की कार्यवाही मतदान अभिकर्ताओं के समक्ष, उपस्थिति में ही की जायेगी प्रयोग मतदान अभिकर्ताओं के समक्ष ही किया जायेगा। पीठासीन अधिकारी अपनी डायरी के उपयुक्त स्थान पर ईडीसी के मतदान में पड़े कुल मतों की संख्या लिखेगा। प्रारूप 17 सी के भाग 1 के क्रमांक 1, जो मतदान स्थल के कुल मतदाताओं की संख्या दर्शाता है, में मतदाता सूची में कुल मतदाताओं की संख्या तथा ईडीसी के मतदाताओं की संख्या को जोड़कर लिखा जायेगा। पीठासीन अधिकारी ऐसे सभी ईडीसी को अलग लिफाफे में बंद कर देगा तथा सील करके लिफाफे के ऊपर मतदेय स्थल की संख्या व नाम एवं उसके अंदर कुल ईडीसी की संख्या अंकित करेगा। मतदान टोली को उपलब्ध करायी गयी चिन्हित मतदाता सूची में मतदाता के कॉलम के आगे पीबी अथवा ईडीसी लिखे होने पर उक्त मतदाता को उसके मतदान केन्द्र पर सामान्य मतदान नहीं कराया जायेगा। अत: निर्वाचन से जुड़े समस्त अधिकारी, कर्मचारी एवं सम्बन्धित मतदातागण उपरोक्त दिशा निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन करते हुये नियमानुसार सम्बन्धित को ईडीसी के माध्यम से मतदान की सुविधा प्रदान करना सुनिश्चित करें। प्रत्येक कार्यालयाध्यक्ष अपने समस्त अधीनस्थों को अनिवार्य रूप से प्रशिक्षित कर मतदान में भाग लेने के लिये पे्ररित करेगा। निर्वाचन के उपरान्त इस बात की भी समीक्षा की जायेगी, कि विभागवार कितने प्रतिशत कर्मियों द्वारा मतदान किया गया। सर्वाधिक प्रतिशत वाले तीन कार्यालयाध्यक्षों को पुरस्कृत भी किया जायेगा।