Uncategorized मध्य प्रदेश

MP में सपा के चुनावी निशाने पर सत्तारुढ़ भाजपा, कांग्रेस के प्रति सॉफ्ट कॉर्नर

इंदौर। मध्यप्रदेश में कांग्रेस के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन नहीं हो पाने और बुधनी सरीखी हाई-प्रोफाइल सीट के अपने घोषित उम्मीदवार के अचानक पाला बदल लेने के बावजूद समाजवादी पार्टी (सपा) कांग्रेस के प्रति नरमी दिखा रही है। सपा के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि उनकी पार्टी 28 नवम्बर को होने वाले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को नुकसान पहुंचाना नहीं चाहती और भाजपा को सत्ता से बेदखल करने के इरादे से 50 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारने पर विचार कर रही है।

सपा की प्रदेश चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष मूलचंद यादव ‘बंते’ ने यहां साक्षात्कार में कहा, “अगर कांग्रेस हमारे पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव से उचित तरीके से चर्चा करती, तो मध्यप्रदेश में दोनों दलों का चुनाव पूर्व गठबंधन हो सकता था। बहरहाल, हमारा राज्य के आसन्न विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के प्रति कोई बैर भाव नहीं है।” कांग्रेस छोड़कर सपा में शामिल होने वाले वरिष्ठ नेता ने कहा, “हम राज्य में व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) के कुख्यात घोटाले के लिये जिम्मेदार भाजपा के 15 वर्षीय कुशासन को खत्म करना चाहते हैं। हम कांग्रेस को चुनावी नुकसान पहुंचाना नहीं चाहते।”