ललितपुर

श्रीराम जानकी प्राण प्रतिष्ठा महामहोत्सव का हुआ आयोजन

ललितपुर। श्रीराम जानकी प्राण प्रतिष्ठा महा महोत्सव जो कि विगत बारह अप्रैल से चल रहा था उसका हवन पूर्णाहूति, विशाल भण्डारा व सम्मान समारोह के साथ समापन हो गया। जिसका संचालन रामस्वरूप एड. व सत्यनारायण द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। वैदिक मंत्रोच्चारण से हवन एवं पूर्णाहूति की क्रियायें संपन्न हुईं एवं श्रीराम जानकी मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा होकर भगवान विराजमान हुये। सभी सामाजिक बंधुओं ने विश्व शान्ति एवं सामाजिक एकता अखण्डता की भगवान से प्रार्थना की। तदोपरान्त सम्मान समारोह तालबेहट साहू समाज द्वारा आयोजित किया गया।कार्यक्रम की अध्यक्षता साहू समाज संरक्षक बाबा काशीराम साहू ने की एवं मुख्य अतिथि नपाध्यक्ष रजनी साहू एवं नगर पंचायत अध्यक्ष तालबेहट, हरभजन साहू रहे। आमंत्रित अतिथियों में ब्रह्माकुमारी चित्ररेखा बहिन एवं मायारानी बहिन के अलावा झांसी अध्यक्ष हरभजन साहू, बबीना अध्यक्ष लखनलाल साहू, ललितपुर अध्यक्ष पर्वतलाल साहू, टीकमगढ़ अध्यक्ष हरीराम साहू, पाली रामगोपाल साहू, भैयालाल साहू, सुदामा साहू, हरनारायण साहू जाखलौन, जगदीश साहू झांसी रहे। मुख्य यजमान गुलाब साहू रहे। सर्वप्रथम नपाध्यक्ष रजनी साहू व नगर पंचायत अध्यक्ष ने संयुक्त रूप से मां सरस्वती के चित्र सम्मुख दीपप्रज्जवलन किया। नपाध्यक्ष ने कहा कि तालबेहट साहू समाज द्वारा साहू समाज द्वारा श्रीराम-जानकी मंदिर का निर्माण कराया है, यह सराहनीय कार्य है। नगर पंचायत तालबेहट अध्यक्ष ने कहा कि हम सभी को बेटियों को पढ़ाने की और बचाने की बहुत आवश्यकता है। बेटी अगर बची रहेगी तो यह संसार दुनिया भी बचेगी और यदि बेटी पढ़ेगी तो दुनिया श्रेष्ठ और सुखी होगी। बी.के.चित्ररेखा ने कहा कि वर्तमान समय कलह-कलेश और दुख का चल रहा है। क्योंकि मनुष्य ने अपने आध्यात्मिक नैतिक मूल्यों का पतन कर लिया है।तालबेहट समाज अध्यक्ष रामसेवक साहू ने सभी अतिथियों का आभार व्यक्त किया। इस दौरान प्यारेलाल साहू, बाबा काशीराम साहू, रामसेवक, नाथूराम साहू, भगवानदास, गुलाब, रामदास, अरविंद, अखिलेश, रामस्वरूप, सत्यनारायण, रवि जाखलौन, हरनारायण ठेकेदार, रामकिशोर, सुनील, निहालचंद्र साहू, आत्माराम साहू, आशाराम साहू, राजेन्द्र साहू, अयोध्या प्रसाद, हरप्रसाद, सी.एल.साहू, मुरारीलाल, दयाराम, रामस्वरूप, शिवचरण साहू, मुरारीलाल, दयाराम, प्रवीण, धर्मेंद्र, चन्द्रभान के अलावा अनेकों सजातीय बंधु उपस्थित रहे।