बुन्देलखण्ड ललितपुर

प्रलोभन वस्तुओं पर रखी जायेगी कड़ी नजर : डीएम

ललितपुर। लोक सभा सामान्य निर्वाचन-2019 के मद्देनजर कलैक्ट्रेट सभागार में जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी मानवेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में पत्रकारवार्ता का आयोजन किया गया। इस प्रेस वार्ता में जनपद के प्रिंट एवं इलैक्ट्रॉनिक मीडिया के प्रतिनिधि उपस्थित रहे। प्रेस वार्ता के दौरान जिलाधिकारी ने बताया कि चुनाव प्रक्रिया के दौरान अवैध वस्तुओं जैसे नगदी, शराब, असहला एवं अन्य अवैध सामग्री को जब्त करने के लिए स्टेटिक सर्विलांस टीम (एस.एस.टी.) तथा उडऩ दस्ता टीम (एफ.एस.टी.) का गठन किया गया है। स्टेटिक सर्विलांस टीम (एस.एस.टी.) चुनाव प्रक्रिया के दौरान लगाये गए बैरियरों पर चेंकिंग करेगी तथा उडऩदस्ता टीम चुनाव प्रक्रिया के दौरान जनपद में निरन्तर भ्रमण करती रहेगी। साथ ही यह टीम बल्नरेबल एरिया पर भी निगरानी रखेगी कि वहां शराब, नकदी, धमकी या प्रलोभन के माध्यम से चुनाव को प्रभावित तो नहीं किया जा रहा। यदि ऐसा कोई प्रकरण सामने आता है तो उसकी वीडियोग्राफी कर पंचनामा किया जाएगा। यदि कोई व्यक्ति वीडयोग्राफी की रिकॉर्डिंग लेना चाहता है तो 300 रुपए शुल्क देकर निर्वाचन कार्यालय से प्राप्त कर सकता है। उन्होंने कहा कि चेकिंग प्रक्रिया के दौरान महिलाओं की तलाशी केवल महिलाकर्मी द्वारा ही की जाएगी। चेकिंग प्रकिया के दौरान यदि 10 लाख से अधिक की धनराशि की बरामदगी होती है जो कि चुनाव से सम्बंधित न हो तो उसकी सूचना इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को देते हुए उसे रिलीज किया जाएगा। उन्होंने बताया कि यदि चेंकिंग के दौरान किसी के पास 10 हजार रुपए से अधिक का सामान या 50 हजार की नगदी बरामद होती है जिसका उपयोग निर्वाचन के दौरान मतदाताओं को प्रलोभन देने के लिए किया जा सकता है तो इसकी सूचना व्यय प्रेक्षक को दी जायेगी। जिलाधिकारी ने यह भी बताया कि किसी भी पार्टी के स्टार प्रचारक के पास 01 लाख की नगदी तक अनुमन्य है, यदि इससे अधिक की धनराशि उसके पास पायी जाती है तो इसकी भी सूचना व्यय प्रेक्षक को दी जाएगी। इसके उपरान्त जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी ने अपील की कि भारतीय दण्ड संहिता की धारा 171 ख के अनुसार कोई व्यक्ति निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान किसी व्यक्ति को उसके निर्वाचक अधिकार का प्रयोग करने के लिए उत्प्रेरित करने के उद्देश्य से नकद या वस्तु रुप में कोई परितोष देता है या लेता है तो वह 01 वर्ष तक के कारावास या जुर्माने या दोनों से दण्डनीय होगा। इसके अतिरिक्त, भारतीय दण्ड संहिता की धारा-171 ग के अनुसार जो कोई व्यक्ति अभ्यर्थी या निर्वाचक, या किसी अन्य व्यक्ति को किसी प्रकार की चोट लगाने की धकमी देता है तो वह एक वर्ष तक के कारावास या जुर्माने या दोनों से दण्डनीय होगा।