बुन्देलखण्ड ललितपुर

विद्यालय समय पर कोचिंग पढ़ा रहे सरकारी शिक्षक

ललितपुर। सरकारी विद्यालयों में तैनात शिक्षकों द्वारा विद्यालय समय पर कोचिंग सेण्टरों का बेखौफ होकर संचालन किये जाने का आरोप लगाते हुये अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के जिला संयोजक राहुल राजपूत व छात्रा इकाई प्रमुख शिरोमणि लोधी के संयुक्त नेतृत्व में जिलाधिकारी को एक ज्ञापन भेजा गया है।ज्ञापन में अभाविप ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि सरकारी कर्मचारी को कोचिंग पढ़ाना प्रतिबंधित है, लेकिन सरकारी कर्मचारी धड़ल्ले से कोचिंग सेण्टरों का संचालन करते हुये विद्यालय समय पर पढ़ा रहे हैं। बताया कि 30 नवम्बर 2018 को उप जिलाधिकारी व जिला विद्यालय निरीक्षक ने सरकारी शिक्षक को सुबह करीब 9 बजे कोचिंग पढ़ाते हुये पकड़ा था, लेकिन उस शिक्षक पर कोई कार्यवाही नहीं की गयी। जबकि उक्त समय शिक्षक का काम अपने तैनाती स्थल पर जाकर कार्य करना था। उन्होंने उक्त शिक्षक के खिलाफ सख्त कार्यवाही किये जाने की मांग उठायी। आगे बताया कि विद्यालय समय पर जनपद भर में 90 प्रतिशत कोचिंग सेण्टरों का संचालन किया जा रहा है, जबकि विद्यालय समय पर कोचिंग सेण्टर संचालन पूर्ण रूप से वर्जित है। विद्यालयों में छात्र-छात्राओं की संख्या कम होना स्कूल समय पर कोचिंग सेण्टरों का संचालन होना मुख्य कारण है, जिस कारण शिक्षा व्यवस्था प्रभावित हो रही है। बताया कि जनपद में 90 प्रतिशत कोचिंग सेण्टर मानक के आधार पर न तो छात्र-छात्राओं को बैठने की व्यवस्था नहीं किये हैं, जिससे केबल 20 विद्यार्थियों को बैठने के स्थान पर 30 से 40 विद्यार्थियों को एक साथ बैठाकर पढ़ाया जा रहा है। जिससे आये दिन घटनायें प्रकाश में आती हैं। इसके अलावा कई कोचिंग सेंटर संचालक तो 50 अभ्यर्थियों का रजिस्ट्रेशन कराकर 4 से 5 बैच लगाकर करीब दो सैकड़ा विद्यार्थियों को कोचिंग सेण्टरों में पढ़ा रहे हैं। तो वहीं कई कोचिंग सेण्टर तो बिना रजिस्ट्रेशन के ही संचालित हो रहे हैं।