ललितपुर

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने मनाया वर्ष प्रतिपदा उत्सव

– नव संवत्सर 6 अप्रैल 2019 शनिवार का कार्यक्रम तुवन मंदिर ग्राउंड पर हुआ। जिसमें  क्षेत्रीय शारीरिक शिक्षण प्रमुख  गजेंद्र का उद्बोधन हुआ ।उन्होंने आज के दिन का महात्म्य बताया कि इसी दिन के सूर्योदय से ब्रह्माजी ने श्रष्टि की रचना प्रारम्भ की ।सम्राट विक्रमादित्य ने इसी दिन राज्य स्थापित किया। इन्हीं के नाम पर विक्रमी संवत् का पहला दिन प्रारंभ होता है।प्रभु श्री राम के राज्याभिषेक का दिन यही है।शक्ति और भक्ति के नौ दिन अर्थात् नवरात्र का पहला दिन यही है। सिखो के द्वितीय गुरू  अंगद देव का जन्म दिवस  है।स्वामी दयानंद सरस्वती जी ने इसी दिन आर्य समाज की स्थापना की एवं कृणवंतो विश्वमआर्यम का संदेश दिया | सिंध प्रान्त के प्रसिद्ध समाज रक्षक वरूणावतार भगवान झूलेलाल इसी दिन प्रगट हुए। विक्रमादित्य की भांति शालिवाहन ने हूणों को परास्त कर दक्षिण भारत में श्रेष्ठतम राज्य स्थापित करने हेतु यही दिन चुना। विक्रम संवत की स्थापना की ।युधिष्ठिर का राज्यभिषेक भी इसी दिन हुआ।संघ संस्थापक प पू डॉ केशवराव बलिराम हेडगेवार का जन्म दिन ।महर्षि गौतम जयंती भारतीय नववर्ष का प्राकृतिक महत्व :वसंत ऋतु का आरंभ वर्ष प्रतिपदा से ही होता है जो उल्लास, उमंग, खुशी तथा चारों तरफ पुष्पों की सुगंधि से भरी होती है।फसल पकने का प्रारंभ यानि किसान की मेहनत का फल मिलने का भी यही समय होता है।नक्षत्र शुभ स्थिति में होते हैं अर्थात् किसी भी कार्य को प्रारंभ करने के लिये यह शुभ मुहूर्त होता है।कार्यक्रम में स्वयंसेवको ने योग व्यायाम का सामूहिक  प्रदर्शन किया जिसमें रमेश सोनी, सुभाष सराफ,सज्जन कुमार शर्मा ,कौशल जी ,आशीष चौबे,महेश मिश्रा, अरविंद सोनी,जितेंद्र वैध,अमर सिंह गौर,अबधेश नामदेव,प्रतापनारायण गुप्ता, के यल मालवीय ,विवेक बोहरे,सुनील कुमार,सूरत सिंह,भरत रजक,प्रमोद गोस्वामी,रामरतन कुशवाहा,कैलाश नारायण, जिला प्रचार प्रमुख आशीष रिछारिया आदि स्वयंसेवक उपस्थित रहे