बुन्देलखण्ड ललितपुर

पूज्य रक्षा भारती ने पाँचवे दिन सुनाई अहिल्या उद्धार की कथा

सतरवांस। जिले के ग्राम सतरवास में श्री हनुमान गढ़ीजी मन्दिर पर नव कुण्डात्मक श्रीराम महायज्ञ का आयोजन श्री श्री 108 श्री देवेंद्रदास जी महाराज के सानिध्य में सम्पन्न हो रहा है। पं.पंकज मोहन शास्त्री यज्ञाचार्य द्वारा वैदिक मन्तोच्चारन से यज्ञ हवन कार्यक्रम मन्दिर पर कार्यक्रम कराया जा रहा है। इस दौरान पं.वृन्दावन शास्त्री प्रदीप शास्त्री, श्रीराम शास्त्री, दीपक शास्त्री द्वारा विधिवत कार्यक्रम सम्पन्न कराया जा रहा है। शाम 4 बजे से रात्रि 8 बजे तक पूज्य रक्षा भारती जी द्वारा श्रीराम कथा का आयोजन हो रहा है। रात्रि 8.30 से 12 बजे तक रामलीला का भव्य शुभारम्भ हो रहा है। कथा को अपनी वाणी द्वारा रसास्वादन कराते हुए पूज्य दीदी सुश्री रक्षाभारती ने भगवान श्रीराम एवं चारो भाइयो के नाम करण मुनि आगमन अहिल्या उद्धार की कथा सुनाई। गुरु वशिष्ठ जी ने भगवान एवम चारो भाइयो का नामांकरण किया। महाराज दशरथ जी से जब मुनि विश्वामित्र जी ने जब भगवान श्री राम एवम लक्ष्मण जी यज्ञ की रक्षा के लिए मांगा तो दशरथ जी ने कहा कि सब सुत मोहि प्रानन की नाही।राम देत नही बनत गुसाई।। अंत गुरु जी के साथ दशरथ जी ने भगवान राम जी एवम लक्ष्मण जी को भेज दिया। गुरु जी ने सभी विद्याओ का ज्ञान करा दिया। गुरु गृह पढऩ गए रघुराई। अल्प काल विद्या सब पाई।। जो भी राक्षस आश्रम के पास आते थे।