बुन्देलखण्ड ललितपुर

तेरह दिवसीय बांस-बेंत से शिल्पकला का स्वरोजगार प्रशिक्षण का शुभारंभ

ललितपुर। सामुदायिक भवन मैनवारा के प्रांगण में पंजाब नेशनल बैंक द्वारा प्रायोजित ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान (आरसेटी) डेवलपमेंट अल्टरनेटिव्स नई दिल्ली तथा साई ज्योति संस्था के संयुक्त तत्वाधान में तारा अक्षर कार्यक्रम के द्वारा साक्षर हुई महिलाओं का तेरह दिवसीय बांस और बेंत से सजावटी सामान बनाने हेतु स्वरोजगार प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया। प्रशिक्षण के शुभारम्भ पर ग्राम प्रधान ननौरा कृष्णपाल सिंह ने मैनवारा और ननौरा की महिलाओं को प्रशिक्षण में प्रतिभाग करने के लिए प्रेरित किया। उन्होने कहा कि किसी भी प्रकार की दक्षता जीवन में बहुत काम आती है। यदि हमारे पास कोई भी ज्ञान हो तो उसका हम कठिन समय में उपयोग कर अपना जीवन यापन कर सकते है। ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान, (आरसेटी) ललितपुर के निदेशक सच्चिदानन्द मण्डल ने प्रशिक्षण के बारे में विस्तार से बताया और समस्त 35 प्रतिभागी महिलाओं को समय से निष्ठापूर्वक प्रशिक्षण में भाग लेने के लिए तथा ट्रेनर से बारीकियों को समझने के लिए प्रेरित किया। साथ ही उन्होंने कहा कि महिलाओं की साक्षरता के साथ साथ आर्थिक, सामाजिक, सशक्तिकरण के लिए तारा अक्षर का प्रयास सराहनीय है। तारा अक्षर के प्रोग्राम कोऑर्डिनेटर अकील अहमद ने तारा अक्षर कार्यक्रम के उद्देश्य पर प्रकाश डालते हुए ललितपुर में संचालित कार्यक्रम के बारे में बताते हुए कहा कि जखौरा ब्लॉक में कार्यक्रम 30 ग्राम पंचायतों में संचालित किया जा रहा है। कार्यक्रम के अन्तर्गत मार्च 2020 तक 7000 से अधिक महिलाओं को साक्षर किया जाएगा।