बुन्देलखण्ड ललितपुर

किसान मई-जून में अवश्य कर लें खरीफ फसल की बुवाई

ललितपुर। जिला कृषि रक्षा अधिकारी गौरव मिश्रा ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुये जिले के किसानों को सूचित किया है कि खरीफ फसलों की बुवाई का समय आने वाला है, इसलिए समस्त कृषक भाई फसलों की बुवाई से पूर्व मई-जून के महीने में खेत की गहरी जुताई अवश्य करें। तथा रबी फसलों की कटाई के बाद फसल अवशेषों/डण्ठलों (नरवाही) को न जलाये बल्कि फसल अवशेषो को जुताई कर भूमि में मिला देने से वह सडकर आगामी फसल के लिए खाद का काम करते है। रबी फसलों की कटाई के बाद खेत की गहरी जुताई आगामी खरीफ फसल के लिए अनेक प्रकार से लाभकारी होती है। ग्रीष्मकालीन जुताई मानसून आने से पूर्व मई-जून के महीने में की जाती है। ग्रीष्मकालीन जुताई करने से मृदा की संरचना में सुधार होता है जिससे मृदा की जलधारण क्षमता बढती है जो फसलों की बढवार के लिए उपयोगी होती है। मृदा के अन्दर छिपे हुए हानिकारक कीडे, मकोडे, उनके अण्डे, लार्वा, प्यूपा एवं खरपतवारों के बीज गहरी जुताई के बाद सूर्य की तेज किरणों के सम्पर्क में आने से नष्ट हो जाते है तथा जमीन में वायु संचार बढ जाता है जो लाभकारी सूक्ष्म जीवों के वृध्दि एवं विकास में सहायक होता है। साथ ही परम्परागत कृषि विधियाँ जैसे कि कतार में फसलों की बुवाई, फसल चक्र, सहफसली खेती, ग्रीष्म कालीन गहरी जुताई आदि कम लागत में गुणवत्तायुक्त उत्पादन प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण है। इनको अपनाने से जल, वायु, मृदा व पर्यावरण प्रदूषण भी कम होता है।