झांसी

जेल प्रशासन कुख्यात बंदियों पर सत्त दृष्टि बनाये रखें : कुमुदलता श्रीवास्तव

झांसी। बंदियों को जेल में ही काम उपलब्ध कराया जाये तो उनका हुनर सामने आयेगा व आय का जरिया भी बनेगा, शीघ्र कार्य योजना तैयार करने के निर्देश, जेल प्रशासन कुख्यात बंदियों पर सतत् दृष्टि बनाये रखें साथ ही हर आने वाले तथा विभागीय कर्मचारियों की नियमित स्क्रीनिंग करें। अपराधियों के इलाज में शिथिलता बर्दाश्त नहीं होगी। उन्हें तत्काल चिकित्सा उपलब्ध करायें। नगर की यातायात व्यवस्था हेतु परिवहन विभाग मार्गों का सत्यापन के साथ ही पंजीकृत वाहन की जानकारी उपलब्ध करायें ताकि स्मार्ट सिटी के साथ ही यातायात व्यवस्था भी स्मार्ट बन सके। मंडल में मिलावटी शराब की बिक्री कतई न हो, सख्ती से कार्यवाही की जाए। अवैध शराब का उत्पादन व भंडारण से निपटने के लिसे प्रवर्तन कार्यों में तेजी लायें और सख्त कार्यवाही करें। विद्युत विभाग की टीम यदि अवैध संयोजन या बिजली चोरी पकडऩे घर के अंदर जाती है तो वीडियोग्राफी अवश्य की जाए। यह निर्देश मंडलायुक्त श्रीमती कुमुदलता श्रीवास्तव ने आयुक्त सभागार में मंडलीय कानून व्यवस्था की समीक्षा करते हुये अधिकारियों को दिए। नगर में परिवहन विभाग व नगर निगम में सांमजस्य न होने से यातायात व्यवस्था बिगड़ी रहने पर नाराजगी व्यक्त की और जल्द सुधारने के लिये कार्य योजना बनाकर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। मंडलीय कानून व्यवस्था की समीक्षा करते हुये मंडलायुक्त ने जेलों के निरीक्षण की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कहा कि बंदियों को दिये जाने वाले भोजन की समय-समय पर गुणवत्ता की जांच की जाये। उन्होंने बंदियों को हैण्डीक्राफ्ट का कार्य कराये जाने पर जोर दिया ताकि वह अपने हुनर को दिखा सके। उन्होंने झांसी जेल में बेकरी लगाये जाने का सुझाव दिया, जेल अधीक्षक जल्द बेकरी का प्रस्ताव दें जिसमें आधुनिक मशीन भी शामिल हो। नगर में टै्रफिक व्यवस्था को लेकर सख्त नाराजगी जाहिर की गई। व्यवस्था को सुधारने के लिये डीआईजी झांसी रेंज ने कहा कि दुपहिया वाहनों पर तीन सवारी सख्ती से बंद की जायें, लोगों की आदत बदले और उन्हें हैलमेट लगाने के लिये प्रेरित करें। इसे सख्ती से लागू करें तथा सभी व्यस्त चौराहे ठीक रखें लगभग 50 मीटर तक कोई गाड़ी खड़ी न हो और न ही ढेले आर आदि लगे। ऐसा करने से चौराहा भव्य दिखेगा, यह जिम्मेदार संबंधित इंस्पेक्टर को दी जाए। क्षेत्र में अन्ना पशुओं से उत्पन्न होने वाली समस्या से निपटने के लिये गांव चौकीदार, ग्राम प्रधान, बीट दरोगा, वीट कांस्टेबिल बैठक कर जबावदेही तय करते हुये कानून व्यवस्था को बिगडऩे न दें क्योंकि कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिये अन्ना पशु एक चुनौती है। इस मौके पर डीआईजी एसएस बघेल, जिलाधिकारी शिवसहाय अवस्थी, जालौन डा. मन्नान अख्तर, एडीएम ललितपुर वाईबी सिंह सहित तीनों जिलों ने एडी, एसपी, जेल अधीक्षक सहित विद्युत विभाग, आबकारी, परिवहन विभाग के अधिकारी उपस्थित रहे।