ललितपुर

जीआरपी थानाध्यक्ष के प्रयासों से हैण्ड बैग स्वामी को सुपुर्द किया

ललितपुर।थाना जीआरपी थानाध्यक्ष संजय कुमार सिंह के  प्रयासों से   रेलवे स्टेशन ललितपुर के प्लेटफार्म संख्या 01 पर  छूट गया यात्री का  एक अदद हैण्ड बैग उसमें रखा सामान कीमती लगभग एक लाख पाँच हजार रुपया  उसके स्वामी को सुपुर्द कर एक  कार्य किया गया।विस्तृत विवरण के अनुसार थानाध्यक्ष संजय कुमार सिंह मय हमराह  SI शफक्कत हुसैन, मुख्य आरक्षी रमजानी खाँ, आरक्षी अजमत उल्ला, आरक्षी मु0 अब्दुल समद के रेलवे स्टेशन ललितपुर के प्लेटफार्म संख्या 01 पर चैकिंग व गस्त में थे कि दौरान चैकिंग रेलवे स्टेशन ललितपुर में बने वासरूम में एक लेडीज हैण्ड बैग टंगा हुआ लावारिश हालत में मिला, जिसके स्वामी की तलाश हेतु रेलवे पूंछतांछ कक्ष द्वारा एलाउन्स किया गया परन्तु कोई यात्री द्वारा उक्त छूटे हुए बैग में अपना स्वामित्व जाहिर नही  करने पर उक्त बरामदशुदा लावारिश बैग की तलाशी ली गयी तो उसके अन्दर एक अदद सोने का मंगल सूत्र  , दो अंगूठी सोने की , एक सोने की जंजीर ,  चाँदी की तोड़िया  बिछिया तीन अददएक छोटे पर्स में रखा 100रुपया नगद, आधार कार्ड, पहचान पत्र, घर की चाबियाँ  तथा दीगर सौन्दर्य प्रसाधन के अन्य सामान आदि मिला।बैग में बरामद आधार कार्ड में अंकित नाम व पता श्रीमती कादम्बरी पत्नी महेन्द्र सिंह निवासी ग्राम रमपुरा थाना बकेवर जिला इटावा  पर व्यक्तिगत प्रयास कर सम्पर्क करने का प्रयास किया गया  मशक्कत के बाद उक्त महेन्द्र सिंह का मो0नं0 7587117191 प्राप्त हो सका। उक्त मोबाइल नम्बर पर सम्पर्क  कर यात्री से संवाद किया गया। यात्री महेन्द्र सिंह पुत्र श्री छविराम निवासी रमपुरा थाना बखेवर जिला इटावा अपने परिवार सहित थाना  आये और बताये कि वह अपने परिवार के साथ समता एक्सप्रेस से ललितपुर  आया था। उसकी पत्नी रेलवे स्टेशन ललितपुर के प्लेटफार्म संख्या 01 पर स्थित वासरूम गयी थी तथा जल्दी में अपना हैण्ड  बैग वासरूम में छोड़ कर चली आयी तथा वह लोग रेलवे स्टेशन से बाहर निकलकर टैम्पो में बैठकर बाहर निकल आये। टैम्पो में उन्हे याद आया कि पत्नी का लेडीज हैण्ड बैग मौजूद नही है। वह घबरा गये क्योकि  बैग में कीमती सामान मौजूद था। आनन फानन में पुनः लौट कर स्टेशन पहुँचे परन्तु बैग वहा पर मुझे नही मिला,  में अपने बैग को तलाश कर रहा था कि आप द्वारा फोन किया गया कि मेरा बैग जीआरपी ललितपुर पुलिस द्वारा बरामद कर लिया गया है। यदि चैकिंग न की गयी होती तो मै अपना बैग कभी भी नही पा सकता था और कोई न  कोई चोर मेरा बैग अवश्य ले जाता, ।