लखनऊ

नकलविहीन परीक्षा कराकर माध्यमिक शिक्षा विभाग ने रचा इतिहास – डा. दिनेश शर्मा

लखनऊ /, प्रदेश के उपमुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने भदोही और प्रयागराज के चुनावी सभाओं में कहा कि यूपी सरकार ने छात्र छात्राओं के उज्जवल भविष्य के लिए नकलविहीन परीक्षा कराकर व समय से अच्छा परिणाम देकर इतिहास रचा है। परिणाम बेहतर है अब यूपी बोर्ड से पास होने वाला पहले की अपेक्षा गर्व से कह सकता है कि उसकी मेधाशक्ति के कारण यह परिणाम है वह भविष्य में डिग्री धारक बेरोजगार नहीं बनेगा क्योंकि उसकी बेहतर नींव रखी जा चुकी है। उन्होंने कहा कि पूर्व की गैर भाजपा सरकारों में स्थिति इतनी खराब थी कि प्रधानमंत्री को भी कहना पडा था कि यूपी में नकल के टेन्डर उठते हैं। परीक्षा केन्द्रों की बिक्री हुआ करती थी। तमाम मुन्ना भाई परीक्षाओं में बैठते थे तथा यह धंधा बन गया था। कापियां  तक बदल दी जाती थीं। हाल यह था कि स्कूल खोलने के लिए भी बडी रिश्वत देनी पडती थी। इन व्यवस्थाओ को भाजपा की वर्तमान सरकार ने बदला है। वर्तमान सरकार ने सभी प्रक्रियाओं में पारदर्शिता लाते हुए उनको आनलाइन कर दिया। अब पढ़ाई होगी तभी कालेज चलेगा। उन्होंने कहा कि इस मोदी योगी युग में यह सब नहीं चलने वाला है। अब चुनाव में मुकाबला बेरोजगारी, महंगाई, सम्प्रदायिकता, परिवारवाद भ्रष्टाचार, राष्ट्रविरोधी विचारधारा से हैं। उन्होंने कहा कि यह चुनाव देश को बनाने के लिए है। देश को मिटाने की हसरत रखने वालों को चुनौती देने के लिए एक होकर कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान में रहकर हिन्दुस्तान की खाने वालों को ध्यान में रखना होगा कि धारा 370 हटाने पर कश्मीर में नए वजीरे आजम की धमकी अब बर्दाश्त नहीं की जाएगी। हद तो यह है कांग्रेस के एक नेता कहते हैं कि कांग्रेस जिन्ना की पार्टी है। जिन्ना को मानने वालों को जान लेना चाहिए कि देश के प्रधानमंत्री अब मनमोहन सिंह नहीं बल्कि नरेन्द्र दामोदर दास मोदी  है।उन्होंने विरोधियों पर चुनावी लाभ के लिए लोगों को जाति, धर्म के आधार पर बांटने का आरोप लगाया। पूर्व में यूपी  में लोगों को जाति में बांटकर आगे बढने से रोका गया है। उन्होंने कहा कि सपा, बसपा व कांग्रेस सब आपस में मिले हुए हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में दो लडके आपस में मिल थे।  अब हर घर से चैकीदार निकलेगा जो ऐसे लोगों की चैकीदारी करेगा। भ्रष्टाचार व अनाचार करने वालों के खिलाफ अब मोदी जी के चैकीदार मिल गए हैं तथा इन्हे सबक सिखाने की तैयारी कर रहा है। उन्होंने कहा कि बसपा की मायावती कांग्रेस को भ्रष्टाचारी पार्टी तो सपा के अखिलेश यादव कांग्रेस को सबसे बडा धोखेबाज बताते हैं पर इसके बाद भी रायबरेली व अमेठी में उन्हे सहयोग करते हैं। इसी प्रकार से कन्नौज, आजमगढ, फिरोजाबाद में महागठबंधन लड रहा है पर बाहर से कांग्रेस समर्थन दे रही है। आखिर यह कौन सा नाटक है? असल में यह मिलकर लूटने व भ्रष्टाचार करने वालों का समूह हैं। उन्होंने कहा कि विपक्ष प्रधानमंत्री मोदी के लिए अमर्यादित शब्दों का प्रयोग कर रहा है। पिछली बार भी जब ऐसा किया था तो जनता ने जवाब दिया था तथा इस बार भी जनता ही जवाब देगी। उन्होंने एक रैली की घटना को बताते हुए कहा कि वहां पर बसपा नेत्री के सम्मान में तेज प्रताप से लेकर आ.डिम्पल जी तक सभी नतमस्तक हुए पर मंच पर मौजूद परिवार के बुजुर्ग नेताजी के सम्मान का ख्याल तक नहीं रखा गया। इससे समाज में काफी नाराजगी है।
डा शर्मा ने कहा कि ऐसा लगता है कि अखिलेश जी ने सपा को बहनजी के चरणो में गिरवी रख दिया है।