ललितपुर

जिलाधिकारी ने खण्ड शिक्षा अधिकारियों को जमकर लताड़ लगाई

ललितपुर। जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह ने बेसिक शिक्षा विभाग के खण्ड शिक्षा अधिकारियों की बैठक आहूत की। इस बैठक में जिलाधिकारी ने  सभी खण्ड शिक्षा अधिकारियों को जमकर लताड़ लगाई। जिलाधिकारी ने कहा कि यदि खण्ड शिक्षा अधिकारी अपनी कार्य पद्धति में सुधार नहीं लाएंगे तो उनके खिलाफ कठोर अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी। जिलाधिकारी ने बेसिक शिक्षा अधिकारी घनश्याम वर्मा को निर्देशित करते हुए कहा कि जनपद के समस्त खण्ड शिक्षा अधिकारियों की निर्दिष्ट प्रपत्रों पर पाक्षिक समीक्षा बैठक जिलाधिकारी स्वयं करेंगे। बैठक में जिलाधिकारी खण्ड शिक्षा अधिकारियों की कार्यपद्धति से रुष्ट दिखे। उन्होंने खण्ड शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया कि कोई भी अध्यापक बिना स्वीकृत अवकाश के विद्यालय से अनुपस्थित नहीं रहेगा। अगर कोई भी अध्यापक निरीक्षण के दौरान बिना अवकाश स्वीकृत कराये विद्यालय में अनुपस्थित पाया जाता है तो उसका उस दिन का वेतन स्थायी रुप से काट दिया जाएगा तथा लगातार तीन बार अनुपस्थित पाये जाने पर निलम्बन की कार्यवाही की जाएगी। जिलाधिकारी को लगातार अध्यापकों के विद्यालयों से अनुपस्थित रहने की शिकायतें प्राप्त हो रही थी, जिस पर संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी ने कई विद्यालयों का औचक निरीक्षण किया था। जिलाधिकारी के औचक निरीक्षण में अध्यापकों के अनुपस्थित रहने की शिकायत सही पायी गई। जिलाधिकारी ने प्रभारी बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देशित किया कि अध्यापकों की अनुपस्थिति से सम्बंधित विकासखण्डवार रिपोर्ट प्रत्येक 15 दिन बाद जिलाधिकारी के समक्ष प्रस्तुत करें। फल एवं दूध वितरण तथा मिड-डे मील के वितरण के सम्बंध में प्राप्त हो रही शिकायतों पर गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि छात्रों के स्वास्थ्य के साथ किसी भी प्रकार का खिलवाड़ क्षम्य नहीं होगा। छात्र-छात्राओं को फल एवं दूध का वितरण नियमानुसार तथा मिड-डे मील का वितरण मेन्यु के अनुसार किया जाए। इसमे अगर किसी प्रकार की शिथिलता बरती जाती है तो सम्बंधित के खिलाफ दण्डात्मक कार्यवाही की जाएगी। बेसिक शिक्षा विभाग में फर्जी अध्यापकों की भर्ती की धीमी प्रगति पर जिलाधिकारी ने नाराजगी जताई। अपर जिलाधिकारी ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि भर्ती से सम्बंधित पत्रावलियां खण्ड शिक्षा अधिकारियों द्वारा उपलब्ध कराने में हीलाहवाली बरती जा रही है, जिससे जांच में अपेक्षित प्रगति नहीं हो पा रही है। जिलाधिकारी ने अपर जिलाधिकारी को निर्देशित किया कि 15 दिवस के भीतर भर्ती की जांच प्रक्रिया को पूरा करें और जो भी कर्मचारी इस जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं उनके सम्बंध में लिखित सूचना उनके समक्ष प्रस्तुत करें, जिससे सम्बंधित के खिलाफ विभागीय कार्यवाही की संस्तुति की जा सके। बैठक के अंत में जिलाधिकारी ने बेसिक शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे विद्यालय को समय से खुलवाना सुनिश्चित करें तथा शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाना सुनिश्चित करें।