ललितपुर

विश्व विरासत दिवस मनाया,जिलाधिकारी ने मतदान करने की दिलायी शपथ, वृद्धजनों को किया सम्मानित

ललितपुर। विश्व विरासत दिवस  सिद्धि समूह एवं इन्टैक ललितपुर चैप्टर के तत्वाधान में धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह ने उपस्थित सैकड़ोंजनों को विरासत संरक्षण एवं लोकतंत्र के महापर्व में अधिक से अधिक मतदान करने की शपथ दिलाई। सिद्धि सागर एकेडमी, सुधासागर इंटर कॉलेज, नगर पालिका बालिका इंटर कॉलेज, राजकीय बालिका इंटर कॉलेज के छात्र-छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से विरासत संरक्षण एवं मतदाता जागरूकता की अलख जगाई। इस अवसर पर उपस्थित जन समूह में काफी उत्साह देखा गया। मुख्य अतिथि जिलाधिकारी ने कहा कि हमारे जनपद में विरासतों की अकूत संपदा मौजूद है, जरूरत है सिर्फ उनकों संजोने एवं विकसित करने की। उन्होंने पर्यटन विकास के लिये आम नागरिकों की सहभागिता पर बल दिया और कहा कि अपनी धरोहरों के संरक्षण एवं पर्यटन विकास के लिये हर आमजन को सजग होना होगा तथा मीडिया को भी अपनी महती जिम्मेदारी का निर्वाह करना होगा। उन्होंने कहा कि जरूरत इस बात की है कि इन विरासत स्थलों को विकसित करने के लिये सरकार पर निर्भर न रहकर निजी संस्थाओं को आगे आकर अभियान चलाना होगा। उन्होंने कहा कि इस जनपद के वासी काफी जागरूक हैं और हमें विश्वास है कि इस लोकतंत्र के महापर्व में सर्वाधिक मतदान कर पूरे देश में ललितपुर को गौरवान्वित करेंगे। हम सभी का प्रयास है कि इस जनपद में शत प्रतिशत मतदान हो ताकि यह जिला प्रबुद्ध एवं प्रगतिशील मतदाताओं के रूप में जाना जाये। उन्होंने उपस्थित जनों से अधिक से अधिक मतदान करने और आम जनता को भी मतदान करने हेतु प्रेरित करने की अपील की। विशिष्ट अतिथि पुलिस अधीक्षक कैप्टन एमएम बेग ने प्राचीन विरासतों को सहेजने और मतदान अधिक से अधिक करने के लिये लोगों को प्रेरित किया। उन्होंने पृथ्वी को बचाने के लिये कर्तव्य निभाने पर जोर देते हुये कहा कि सर्वाधिक मतदान जब ही सार्थक होगा जब नागरिक योगदान करेंगे। अपर जिलाधिकारी अनिल कुमार मिश्रा ने कहा कि जिलाधिकारी के नेतृत्व में यह जनपद अधिक से अधिक मतदान कर देश में कीर्तीमान स्थापित करेगा। सिद्धि समूह के चेयर मैन भूपेन्द्र जैन ने अपने सम्बोधन में कहा कि पर्यटन एवं धरोहरों की जागृति के लिये लगातार अभियान चलाना चाहिये। वहीं लोकतंत्र हमारे देश की बहुमूल्य विरासत है। इसलिये अधिक से अधिक मतदान करें। उन्होंने बुजुर्गों को समाज की विरासत बताते हुये जिलाधिकारी के अधिक से अधिक मतदान के प्रति जागरूकता अभियान को महत्वपूर्ण बताया तथा आश्वासन दिया कि उनके इस प्रयास में सभी पूर्ण ईमानदारी से सहयोग करेंगे। इन्टैक संयोजक सन्तोष कुमार शर्मा ने कहा कि उत्तर प्रदेश में सर्वाधिक विरासत स्थल ललितपुर जनपद में मौजूद हैं। जिनको देखने देशभर से सैलानी आते हैं। इन स्थलों का यदि समुचित विकास एवं पर्यटन स्थलों पर सैलानियों के लिये आवागमन, पानी, बिजली, गाइड व अन्य सुविधाएं मुहैया हो जायें तो यहां विरासत पर्यटन के नये आयाम स्थापित होंगे।मनमोहन जडिय़ा ने प्राचीन विरासतों की प्रदर्शनी लगाई ,कार्यक्रम में भगवत नारायण शर्मा, हरीश कपूर टीटू, मनमोहन जडिया, पूनम मलिकर्,, ओमप्रकाश बिरथरे, काशीराम साहू, अभय श्रीमाली आदि ने अपने विचार रखे। जिलाधिकारी ने समाज के बुजुर्गों का माला पहनाकर सम्मान किया। इस अवसर पर एसडीएम सदर सुश्री गजल भारद्वाज, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी मनोज कुमार वर्मा, प्रभारी डीआईओएस राजेन्द्र त्रिपाठी, कमाण्डेंड होमगार्ड प्रताप सिंह सिंह, ईओ नगर पालिका डा. संजय मिश्र, नगर पंचायत महरौनी के चैयरमैन श्रीमति कृष्णा सिंह, जीजीआईसी की प्रधानाचार्य पूनम मलिक, सिद्धि सागर एकेडमी की डायरेक्टर रीता जैन, डॉ. सुषमा जैन, नीति शमापीएन कॉलेज के प्रधानाचार्य, सुधासागर कॉलेज की प्रधानाचार्य कल्पना जैन, वरिष्ठ नागरिक कल्याण समिति के अध्यक्ष पीएन दीक्षित, महा सचिव राजाराम गोस्वामी, भगवत नारायण बाजपेई, अवध बिहारी कौशिक, इंटैक सदस्य रजनीश चडडा, देवेन्द्र चतुर्वेदी, पर्यटन मित्र फिरोज इकबाल, सर्वेश जैन, रमाकांत तिवारी, अनुराग चतुर्वेदी, शुभराखी रत्नाकर, प्रीति शुक्ला, ग्रापए अध्यक्ष सुरेश कौंते, व्यापार मण्डल के अध्यक्ष सुरेश बडेरा, महामंत्री प्रदीप सतरवांस, कामरेड जिनेन्द्र जैन, बृजभूषण कटारे, कैलाश नारायण तिवारी, गोविन्द व्यास, राजेश महेश्वरी, गेंंदालाल सतभैया, राजीव पवैया, राम अग्रवाल, अजय सक्सेना,डॉ एलआईयू निरीक्षक प्रीति दीक्षित, स्टेनों अनिल दीक्षित, प्रभारी अपर सूचना अधिकारी सुरेन्द्र कुमार सिंह, सुमित कुमार, यातायात एसआई एनके सिंह, जीएमडी आईसी बाकेलाल, अस्टैंट प्रबंधक एसके सूर्यवंशी, डॉ प्रदीप शर्मा, मनोज जैन,आदि सहित संैकड़ोंजन उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन अजीज कुरैशी जबकि आभार सिद्धि समूह के डायरेक्टर विपुल जैन एवं पत्रकारिता विनीत चतुर्वेदी ने संयुक्त रूप जताया।