झांसी

मधुमक्खियों ने बोला हमला, मची भगदड़

झाँसी। किसी के घर को नुकसान पहुंचाना बड़ा कठिन होता है और यह सभी जानते हैं, फिर वह चाहे जीव हो या मनुष्य, लेकिन मनुष्य अपने मकान, दुकान की सुंदरता बढ़ाने के लिए रंग-पुताई करते समय अगर किसी जीव के घर को तहस-नहस करता है तो वह कितना ही कमजोर जीव क्यों न हो बार जरुर करता है और ऐसा ही माजरा जीआरपी थाना में आज मधुमक्खियों ने उस समय हमला बोल दिया। जब थाने की रंगाई-पुताई का काम जोरों पर था। मधुमक्खियों के हमले में दो मजदूर आहत हो गए। पुलिस कर्मियों व थाने में मौजूद अन्य लोगों ने कमरों में बंद होकर अपनी जान बचाई। आधा घंटे से अधिक समय तक हुए इस आतंक से किसी प्रकार निजात मिल सकी। तब जाकर पुलिस कर्मियों की जान में जान आई।बुधवार सुबह लगभग नौ बजे जीआरपी झाँसी थाना परिसर में रंगाई पुताई के काम में मजदूर लगे हुए थे। थाना परिसर में पीपल के विशाल वृक्ष पर मधुमक्खियों का छत्ता लगा हुआ है। किसी प्रकार उनके छत्ते में कुछ हुआ और अचानक मधुमक्खियों अपने छत्ते से बाहर निकल आई। झुंड का झुंड थाना परिसर में भनभनाने लगा। देखते ही देखते वहां इतनी मधुमक्खियों को देखकर सभी घबरा गए और जान बचाने केलिए काम-काज छोडकऱ कमरों में पहुंच गए। साथ ही कमरों को अंदर से बंद कर लिया। इस बीच वहां काम कर रहे दो मजदूरों को मधुमक्खियों ने काट लिया। वे किसी प्रकार उनके चंगुल से बचकर भागे। आधा घंटे से अधिक समय तक मधुमक्खियों ने जीआरपी थाने में साम्राज्य कायम रखा। बाद में धीरे-धीरे वे कम हो गई। तब जाकर पुलिस कर्मियों और अन्य लोगों ने कमरों के दरवाजे खोल व बाहर निकले। इससे पहले भी कई बार मधुमक्खियों ने इसी थाना परिसर में ऐसा ही आतंक मचाया, लेकिन उनसे निजात पाने की कोई सकारात्मक कोशिश नहीं की गई।